संभोग से होने वाले पांच लाभ, स्वास्थ के लिए एक अचूक वरदान

प्यार दो आत्माओं और शरीर का मिलन होता है। जिसमें हम अवर्णनीय संवेदनाओं का अनुभव करते हैं। हालांकि, सम्भोग या सेक्स के भी अपने कुछ नुकसान होते हैं। खासकर तब जब आप कई अलग अलग पार्टनर के साथ यौन संबंध बनाते हैं, तो अवांछित गर्भावस्था (प्रेगनेंसी) और विभिन्न यौन संचारित रोगों (sexually transmitted diseases ) के संक्रमण का खतरा होता है।

1662481930970

किंतू, इन सभी खतरों और जोखिमों के अतिरिक्त, यह भी कहा जा सकता है कि सेक्स के ढेर सारे लाभ भी होते हैं और सम्भोग स्वास्थ के लिए लाभदायक होता है।

यह आर्टिकल पाठकों को उन स्वास्थ्य लाभों के बारे में बताएगा जो सम्भोग करते हैं।

व्यायाम के रूप में सम्भोग

सेक्स अर्थात् सम्भोग को निश्चित रूप से एक उचित एक्सरसाइज माना जा सकता है, यही वजह है कि यह आपको अतिरिक्त वजन से छुटकारा पाने और फिट रहने में सहायता कर सकता है।

बहुत सारी वैज्ञानिक अध्ययन के आधार पर साबित होता है कि संभोग के दौरान कैलोरी की खपत महत्वहीन नहीं है। अध्ययन में कुल 21 विषमलैंगिक (heterosexual) जोड़े शामिल हुए थे, जिनमें संभोग के 30 मिनट के दौरान जितनी ऊर्जा का व्यय हुआ था, उतनी ही ऊर्जा का व्यय व्यायाम के समय हुआ।

प्रशिक्षण के अध्ययन के समय, पुरुषों ने औसतन 276 किलो कैलोरी ऊर्जा बर्न की थी, इसके विपरित महिलाओं ने औसतन 213 किलो कैलोरी ऊर्जा बर्न की थी।

दूसरी तरफ सम्भोग के समय महिलाओं ने 69.1 किलो कैलोरी ऊर्जा और पुरुषों ने 101 किलो कैलोरी ऊर्जा बर्न की।

इस अध्ययन से यह भी पता चला है कि अपनी पत्नी के साथ सम्भोग के दौरान ऊर्जा का अधिक प्रयोग होता है, जबकि व्यायाम के समय ऐसा नहीं होता है।

वैज्ञानिक दृष्टिकोण बताता है कि यौन संबंध के दौरान ऊर्जा व्यय लगभग 85 KCal या 3.6 Kcal/min तक होती है। इस रिपोर्ट से पता चलता है कि युवा पुरुष और महिला में सेक्स मध्यम तीव्रता (लगभग 5.8 Mets) पर किया जाता है। संभोग क्रिया से हानि कम और फायदें अधिक होते हैं।

बेहतर नींद की गुणवत्ता

संभोग क्रिया मानसिक तनाव और दबाव को कम करता है। यही कारण है,” आप शायद अच्छे सेक्स के बाद की भावना को अच्छी तरह से जानते हैं। कुछ क्षण पहले आपको नींद नहीं आ रही थी, लेकिन संभोग क्रिया के चंद मिनटों बाद, आप तुरंत सो जातें हैं।

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि संभोग के दौरान, प्रेम हार्मोन ऑक्सीटोसिन निकलना जारी रहता है। एंडोर्फिन हार्मोन भी सेक्स क्रिया के समय निकलता है, जो हार्मोन के थकाऊ संयोजन को पूरा करता है।

प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए एक बूस्ट

112 कॉलेज के छात्रों के वैज्ञानिक अध्ययन से पता चला है कि रोजाना सम्भोग करने से प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए अच्छा है।

सेक्स करने वाले समूह को चार अलग-अलग कैटेगरी में बांटा गया था। एक छात्रों के समूह ने सेक्स नहीं किया, दूसरे ने बार-बार सेक्स किया, तीसरे ने दूसरे समूह से अधिक सेक्स किया और चौथे ने तीसरे से अधिक बार सेक्स किया।

चारों समूह की संभोग क्रिया के समाप्त होने के बाद, उनके लार में से इम्युनोग्लोबिन ए के स्तर की माप की गई। एक एंटीबॉडी जो शरीर को रोग पैदा करने वाले रोगजनकों से बचाता है।

इस रिपोर्ट में खुलासा हुआ कि चौथे समूह में दूसरे समूह से अधिक इम्युनोग्लोबिन ए स्रावित हुआ।

सेक्स, आपकी आयु को लंबा करता

जब दो प्रेमी युगल सेक्शुअली काफ़ी एक्टिव रहते हैं तब वे दोनों काफ़ी जवां और लंबी आयु के नज़र आते हैं। यह बात भी वैज्ञानिक अध्ययन में सिद्ध हो चुकी है।
संभोग के इस लाभ पर कई शोध कार्य किए गए, जिससे पता चलता है कि संभोग इंसान की आयु को लंबा करता है।

एक शोध के अनुसार, 10 वर्ष की अवधि में,
अध्ययन की शुरुआत में 45 से 59 वर्ष की आयु के 918 पुरुषों को ट्रैक किया गया। इस अवधि के बाद, नियमित रूप से संभोग करने वाले पुरुषों ने उन लोगों की तुलना में 50% कम मृत्यु दर दिखाई, जो यौन रूप से सक्रिय नहीं थे। अन्य अध्ययनों ने भी इस संबंध की पुष्टि की।

10 वर्षों का अध्य्यन और 3500 यूरोपीय लोग शामिल

इस शोध में यूरोपीय और अमेरिकी महिला पुरूष की युवा अवस्था से संबंधित कारकों की जांच की गई।
जांचकर्ताओं के एक समूह ने अध्यनन से देखा और फिर अनुमान लगाया कि जिन महिलाओं और पुरूषों की उम्र 7 से 12 वर्ष के लिए बीच आंकी जाती है, उन्हें सुपर युवा माना जाता है। इन सभी सुपर युवा वर्ग में मजबूत संभोग क्रिया के लक्षण मौजूद होते हैं। सुपर युवा प्रतिभागियों ने दिन में तीन बार संभोग किया और दूसरे युवा वर्ग ने 2 बार संभोग क्रिया की।
इनमें सुपर युवा वर्ग अपनी यौन सुख के लिए सहज और आश्वस्त दिखाई दिए।

5.मानसिक स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव

जैसा कि वैज्ञानिक अध्ययनों से पता चलता है कि सेक्स हमारे मानसिक स्वास्थ्य जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। एक वैज्ञानिक अध्ययन ने सेक्स और संतुष्टि (Satisfaction) के बीच मानसिक स्वास्थ्य के बीच एक स्पष्ट संबंध दिखाया। दूसरी ओर, हस्तमैथुन का शायद स्वास्थ जीवन पर विपरीत प्रभाव पड़ता है।

स्वीडिश आबादी पर किए गए अध्ययन से पता चलता है कि पीवीआई आवृत्ति पुरुषों और महिलाओं दोनों के मानसिक स्वास्थ्य के साथ अधिक संतुष्टि का एक महत्वपूर्ण भविष्यवक्ता थी। जबकि इसके विपरीत, हस्तमैथुन एक अन्य यौन व्यवहार के लिए नियंत्रित बहुभिन्नरूपी विश्लेषणों में मानसिक स्वास्थ्य संतुष्टि के साथ विपरीत रूप से जुड़ा हुआ था। पीवीआई के अलावा अन्य आवृत्तियों और भागीदारी वाले यौन व्यवहार मानसिक स्वास्थ्य संतुष्टि से असंबंधित थे।

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Powered By
Best Wordpress Adblock Detecting Plugin | CHP Adblock